Home Indian Festival लॉकडाउन में घर पर रक्षा बंधन कैसे मनाए

लॉकडाउन में घर पर रक्षा बंधन कैसे मनाए

0
लॉकडाउन में घर पर रक्षा बंधन कैसे मनाए
happy rakshabandhan
Home » लॉकडाउन में घर पर रक्षा बंधन कैसे मनाए

Estimated reading time: 3 minutes

रक्षाबंधन हिंदुओं का प्रमुख त्योहार है इस दिन बहनें अपने भाई की कलाई पर राखी बांधती है और भाई की लंबी आयु की कामना करती है यह पर्व सदियों से मनाई जा रही है इस त्योहार पर बहने अपने भाई के घर राखी और मिठाइयां ले जाती है यह पर्व खुशियों का त्योहार है हमारे हिंदू समाज में इसे हर्ष और उल्लास के साथ मनाया जाता है| आज जब पूरा विश्व महामारी से जूझ रहा है और त्योहारों की रौनक फीकी पड़ती जा रही है हम आपको बताते है की कैसे आप इस कठिन समय मैं रक्षाबंधन को घर पर ही रहकर मना सकते हैं|

घर से दूर भाई बहन कैसे करें रक्षाबंधन सेलिब्रेट

लॉकडाउन में घर पर रक्षा बंधन कैसे मनाए
happy rakshabandhan

वीडियो कॉल पर

  • अपने भाई का फोटो ले
  • अपने भाई को वीडियो कॉल करे
  • अब फोटो को तिलक लगाकर मुँह मैं थोड़ा मीठा खिला दें
  • आप रक्षावंधन वीडियो कॉल के माध्यम से मना सकते हैं| और डिजिटल पेमेंट से अपने बहनो को गिफ्ट दे सकते है

रक्षाबंधन क्यों मनाया जाता है| महारानी कर्मावती की कहानी

इतिहास में राखी के महत्व के अनेक उल्लेख मिलते हैं मेवाड़ की महारानी कर्मावती ने मुगल राजा हुमायूं को राखी भेज कर रक्षा याचना की थी उन्होंने मुसलमान होते हुए भी राखी की लाज रखी रक्षाबंधन में सर्वाधिक महत्वपूर्ण रेशम का धागा है जिसे महिलाएं भावपूर्ण होकर भाई के कलाई पर बांधती है बहन भाई का रिश्ता खट्टा मीठा होता है जिसमें वह आपस में बहुत झगड़ते हैं पर एक दूसरे से बात किए बिना नहीं रह सकते राखी का पर उनके जीवन में एक दूसरे के महत्व को बताने का कार्य करता है अतः हमें सभी को यह उत्सव विधि से मनाना चाहिए

रक्षाबंधन से हमें क्या सीख लेनी चाहिए

आज यह  त्योहार हमारी संस्कृति की पहचान है और हर भारतवासी को इस त्योहार पर गर्व है लेकिन भारत में जहां बहनों के लिए इस विशेष पर्व को मनाया जाता है वहीं कुछ लोग ऐसे भी हैं जो भाई की बहनों को गर्भ में ही मार डालते हैं आज कई भाइयों की कलाई पर राखी सिर्फ इसलिए नहीं  बांध पाती क्योंकि उनकी बहनों को उनके माता-पिता ने इस दुनिया में आने ही नहीं दिया यह  बहुत ही शर्मनाक बात है कि जिस देश में कन्या पूजन का विधान शास्त्रों में लिखा है वहां पर कन्याओं को गर्भ में ही मार दिया जाता है यह पर्व हमें यह भी याद दिलाता है कि हमारे जीवन में बहने कितना महत्व रखती है

Check here or read more interesting articles

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here